♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

रीको के अतिक्रमण हटाओ अभियान पर लगा ग्रहण, भारत जोड़ो यात्रा के कारण नहीं मिला पुलिस जाब्ता

भिवाड़ी। भिवाड़ी के औद्योगिक इलाकों में सरकारी ज़मीनों पर काबिज अतिक्रमियों को बेदखल करने के बनाई गई रीको की कार्य योजना पर ग्रहण लग गया है। रीको ने कई बार अतिक्रमण हटाने के लिए पुलिस जाब्ता मांगा लेकिन अभी तक जाब्ता नहीं मिलने पर सरकारी ज़मीनों से अवैध कब्जा नहीं हटाया जा सका। यहां बता दें कि राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास एवं निवेश निगम (रीको) के   चौपानकी, पथरेड़ी, सारेखुर्द, खुशखेड़ा व कारोली सहित अन्य औद्योगिक इलाकों में तकरीबन सौ करोड़ रुपए से अधिक कीमत की ज़मीन पर लोगों ने अवैध रूप से कब्जा कर दुकान व मकान एवं कॉलोनी बना लिया है तथा औद्योगिक भूखण्ड व पार्कों में खेती करके जेबें भर रहे हैं। इसके अलावा सड़कों के किनारे अतिक्रमण करवाकर रेहड़ी-पटरी वालों से किराया वसूल रहे हैं। रीको अधिकारी पिछले कई दिन से अतिक्रमण हटाने की तैयारी कर रहे थे और इसके लिए गत 23 नवंबर को रीको के अधिकारियों के आदेश पर जेसीबी व मजदूर चौपानकी औद्योगिक क्षेत्र में पहुंच गए और अतिक्रमण हटाने के लिए सरकारी आदेश का इंतजार करते रहे लेकिन पुलिस जाब्ता नहीं मिलने पर अतिक्रमण हटाने का अभियान अग्रिम आदेश तक स्थगित कर दिया गया। तभी से रीको अधिकारी पुलिस अधीक्षक कार्यालय में जाकर अधिकारियों से पुलिस जाब्ता की मांग कर रहे हैं लेकिन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के अलवर जिले में आने का हवाला देकर फ़िलहाल जाब्ता देने से मना कर दिया गया है। इसलिए भारत जोड़ो यात्रा के अगले हफ्ते अलवर जिले से निकलने के बाद ही रीको को पुलिस जाब्ता मिलने की उम्मीद है, तभी अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू हो सकती है।
चौपानकी औद्योगिक क्षेत्र में सड़क किनारे किया गया अतिक्रमण।
– चौपानकी, पथरेड़ी व खुशखेड़ा सहित अन्य औद्योगिक क्षेत्र में रीको की ज़मीन व पार्कों पर हुए अतिक्रमण को हटाने के लिए पुलिस जाब्ता मांगा गया है, लेकिन भारत जोड़ो यात्रा के कारण जाब्ता नहीं मिल सका है। अब भारत जोड़ो यात्रा के अलवर जिले से निकलने के बाद पुलिस जाब्ता मिलने की उम्मीद है। इसके बाद अतिक्रमण हटाने का अभियान शुरू किया जाएगा।
गुरमीत सिंह, आरएम रीको यूनिट द्वितीय भिवाड़ी।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

केंद्र सरकार के कामकाज से क्या आप सहमत हैं

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129