♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

भाजपा के पूर्व विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने दिया विवादित बयान, बोले हमने पांच मारे, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ बयान

जेएनयू में कंडोम मिलने के बयान देकर सुर्खियों में आए थे ज्ञानदेव आहूजा

एनसीआर टाईम्स, नईं दिल्ली। राजस्थान के अलवर जिले में मॉब लिंचिंग मामले में भाजपा के पूर्व विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने विवादास्पद बयान दिया है। ज्ञानदेव ने कहा कि इन्होंने मारा, हमने 5 मारे। अपने बयानों की वजह से चर्चा में रहने वाले बीजेपी के पूर्व विधायक ने कहा कि ये पहली बार हुआ है कि उन लोगों ने मारा है। अब तक तो पांच हमने मारे हैं। मैंने हमारे लोगों को और कार्यकर्ताओं को बड़ी बड़ी छूट दे रखी है। मारो, बरी भी करवा देंगे, जमानत भी करवा देंगे। आंदोलन चलाने वाले चलाते हैं, आंदोलन की कूटनीति तैयार करनी पड़ती है। जुबेर खान नौकरी की बात कह गए हैं। नौकरी कौन सी सरकारी है, वह तो संविदा की है। सोशल मीडिया पर पूर्व विधायक का वीडियो वायरल हुआ है। हालांकि, हिंदुस्तान लाइल वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है। उल्लेखनीय है कि अलवर में गोविंदगढ़ के रामबास गांव में 14 अगस्त को किसान चिरंजीलाल (45) मॉब लिंचिंग का शिकार हो गया। शुक्रवार को गोविंदगढ़ पहुंचे रामगढ़ से भाजपा के पूर्व विधायक ज्ञानदेव आहूजा विवादित बयान दिया। उल्लेखनीय है कि भाजपा के पूर्व विधायक जेएनयू में कंडोम मिलने के बयान देकर सुर्खियों में आए थे।

विवाद बढ़ने पर दी आहूजा ने दी सफाई

हालांकि, विवाद बढ़ने पर भाजपा के पूर्व विधायक ने सफाई भी दी है। आहूजा ने कहा कि मेरे बयान का गलत अर्थ न निकालें। आहूजा से जब उनके विवादित बयान को लेकर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि मेरे बयान का पत्रकार गलत मतलब न निकालें। मॉब लिंचिंग में अब से पहले जो लोग मारे गए, वे गौ तस्करी के आरोपी थे, गोकशी के घटनाओं में शामिल थे। धर्म विशेष की भावनाओं के साथ खेल रहे थे। इसलिए वे मारे गए। जबकि चिरंजीलाल ने कोई गुनाह नहीं किया था। फिर भी उसे पीट-पीटकर मार डाला गया।

पूर्व विधायक जुबैर खान बोले- भाजपा नेताओं से ऐसी ही भाषा निकलेगी

ज्ञानदेव आहूजा के धुर विरोधी रामगढ़ के पूर्व विधायक व मेवात विकास बोर्ड के अध्यक्ष जुबैर खान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से इसी तरह की भाषा निकलेगी। ये न तो किसी की मदद करने वाले हैं, न कोई विकास करने वाले हैं। हमारा लक्ष्य है जिस परिवार का मुखिया मरा है उस परिवार को कैसे आर्थिक मदद मिले। नौकरी में मदद हो। जिन्होंने हत्या की है उन्हें कैसे सजा मिले, हमारा लक्ष्य यही है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे
Donate Now
               
हमारे  नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट , और सभी खबरें डाउनलोड करें
डाउनलोड करें

जवाब जरूर दे 

केंद्र सरकार के कामकाज से क्या आप सहमत हैं

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 84482 65129